चाक में अभिव्यक्त स्त्रियों की राजनीतिक चेतना
08 March 2021 | खुशबू

राजनीति  जैसे महत्वपूर्ण सत्ता के क्षेत्र में पाँव रखने से एक स्त्री को घर बाहर की जिन कठोर विपरीत परिस्थितियों के विरुद्ध संघर्ष करना पड़ता है उसका बेहद रोचक और विश्वसनीय चित्रण मैत्रेयी पुष्पा के उपन्यास ‘चाक’ में हुआ है| ‘चाक’ में दो स्त्रियाँ, प्रधानी के चुनाव में सक्रिय हैं, पहली शहरी, टूटी-फूटी अंग्रेजी बोलने वाली पूर्व प्रधान भवानी प्रसाद की बहू ‘सीमा’ तथा दूसरी, गजाधर की  बहू ‘सारंग’| सीमा की भूमिका पंचायत के चुनाव में बहुत सीमित है| वह शहरी और शिक्षित होने, अपने संवादों में ‘प्लीज’, ‘बोर’, ‘इंसल्ट’ जैसे अंग्रेजी शब्दों का प्रयोग करने के बावजूद एक डरी हुयी और परंपरागत रूढ़िवादी चरित्र है| भवानीदास उसका उपयोग गाँव की  महिलाओं का वोट प्राप्त करने के लिए करते हैं| सारंग को भी राजनीति में ...

Read More
‘एक कहानी यह भी’ में अभिव्यक्त स्त्री स्वर
08 March 2021 | डॉ. समर विजय

बहरहाल, शादी तो हो गई, परंतु शादी के समय ही राजेन्द्र ने लेखकीय  अनिवार्यता के नाम पर समानांतर जीवन का आधुनिकतम पैटर्न थमा दिया। उनके अनुसार “देखो छत जरूर हमारी एक होगी, लेकिन जिंदगियाँ अपनी-अपनी होंगी- बिना एक-दूसरे कीजिन्दगी में हस्तक्षेप किए, बिल्कुल स्वतन्त्र, मुत्त और अलग”6             लिखने की स्वतंत्रता की आकांक्षा रखने वाली स्त्री के लिए तो यह स्थिति सहज हो सकती है परंतु एक पत्नी के लिए यह वज्रपात से कम नहीं था मन्नू भंडारी के लिए, जिसने इस तरह के पैटर्न की कल्पना भी न की थी और जिसने एक लेखकीय -जीवन के साथ-साथ सफल दाम्पत्य जीवन यापन के सपने संजों रखे थे, उसकी विवाहोपरांत एक दूसरे में समाहित हो जाने की आकांक्षा चूरचूर हो गई। उन्हें लगा “सर पर छत का आश्वासन देकर जैसे पैर के नीचे की जमीन ही खींच ली हो।&rdqu...

Read More
प्रसाद साहित्य : इतिहास और कल्पना का सामंजस्य
08 November 2020 | डॉ. शिवानी सक्सेना

प्रसाद जी के साहित्य में हमें कई विधागत रूप दिखाई पड़ते है। उन्होंने अपने जीवन-काल में 12 नाटकों- सज्जन, करूणालय, राजश्री, प्रायश्चित, विशाख, अजातशत्रु, जनमेयजय का नागयज्ञ, कामना,  स्कंदगुप्त, चन्द्रगुप्त, ध्रुवस्वामिन की रचना की। इसके अतिरिक्त 3 महत्त्वपूर्ण उपन्यासों - कंकाल, तितली, इरावती(अपूर्ण)  का सृजन किया। इसके अलावा प्रसाद जी के 5 कहानी संग्रह- छाया, प्रतिध्वनि,आकाशदीप,आंधी, इंद्रजाल प्रकाशित हुए। चिंतन के क्षेत्र में भी उन्होंने लेखन कार्य किया और “काव्य-कला तथा अन्य निबंध” शीर्षक से उनके निबंधों का संग्रह  प्रकाशित हुआ है। इसके अलावा यदि काव्य की बात की जाए तो झरना,आंसू,लहर, कामायनीउसकी छायावाद की प्रसिद्ध रचनाएँ हैं |    जयशंकर प्रसाद के साहित्य को पढ़ने के उपरांत हम पाते हैं कि उन्होंने अपने अधिकांश साहित्य को ऐतिहासिक कलेवर में रचा हैं...

Read More
Happy Parenting !!
06 November 2020 | Dr. Rekha Sapra

Can this be a reality?Most of the apprehension of the parents, irrespective of the age of the child pertain to ‘Am I doing the right thing for my child?’ ‘How do I make my child one of the best in every field?’‘How do I discipline my child so as he/she is confident, an achiever?’ and many more such questions are always paramount on the parents’ mind. As a child Psychologist when I get to see the behavioural and adjustment related challenges in children, the important observation of the parent child interaction patterns has many hidden answers to the problem.There are many parenting styles and disciplining techniques used by the parents. These are unique to the parents and children, which are dependent on many factors both for parents and ...

Read More
Loading